हल्द्वानी । बनभूलपुरा दंगे के बाद राज्य सरकार द्वारा भारी संख्या में केंद्र सरकार से अर्द्ध सैनिक बल की मांग करना प्रशासन द्वारा अब इलाके में बड़ी कार्यवाही किये जाने की ओर इशारा कर रहा है । बनभूलपुरा क्षेत्र में कई बस्तियां अवैध रूप से बसी हुई हैं । यहां तक कि रेलवे की भूमि से अतिक्रमण हटाने का विवाद भी लम्बे समय से विचाराधीन है । जो फोर्स की कमी या अन्य कारणों से ठंडे बस्ते में रखा गया था ।

ALSO READ:  भाजपा नेताओं ने मुख्यमंत्री के समक्ष रखी नैनीताल की ये ज्वलन्त समस्याएं ।

इस बीच 8 फरवरी को मलिक का बगीचा क्षेत्र से अवैध रूप से बने नमाज स्थल व मदरसा को हटाने के दौरान पुलिस,नगर निगम व प्रशासनिक अधिकारियों पर  हमले,आगजनी व हिंसा हुई ।  जिस पर तत्काल नियंत्रण के लिये पुलिस को गोली चलानी पड़ी और क्षेत्र में कर्फ्यू लागू है । जिसके बाद अब स्थिति नियंत्रण में है । लेकिन इसके बाद भी 10 फरवरी को प्रदेश की मुख्य सचिव ने केंद्रीय गृह सचिव को पत्र भेजकर क्षेत्र में हालात सामान्य बनाने के लिये अतिरिक्त अर्द्ध सैनिक बल भेजने की मांग की । राज्य सरकार के इस आग्रह पर हल्द्वानी में अतिरिक्त अर्द्ध सैनिक बल की कम्पनियां पहुंचने लगी हैं ।

ALSO READ:  मुख्यमंत्री का नैनीताल में मॉर्निंग वॉक । बाजार भी गए । हॉकी खेली । अस्पताल में मरीजों से भी मिले ।

 

रविवार की शायं अर्द्ध सैनिक बल की एक कम्पनी हल्द्वानी पहुंची । जबकि चार और कम्पनियों को पहुंचना है । जिससे पूरे हल्द्वानी में तरह तरह की चर्चाएं हैं ।

By admin

"खबरें पल-पल की" देश-विदेश की खबरों को और विशेषकर नैनीताल की खबरों को आप सबके सामने लाने का एक डिजिटल माध्यम है| इसकी मदद से हम आपको नैनीताल शहर में,उत्तराखंड में, भारत देश में होने वाली गतिविधियों को आप तक सबसे पहले लाने का प्रयास करते हैं|हमारे माध्यम से लगातार आपको आपके शहर की खबरों को डिजिटल माध्यम से आप तक पहुंचाया जाता है|

You cannot copy content of this page