नैनीताल । निर्माता निर्देशक योगेश वत्स की बहुचर्चित फिल्म गदेरा जिसका फिल्मांकन उत्तराखंड की वादियों में किया गया था 10 मई को ओटीटी प्लेटफार्म जी 5 पर एक्सक्लूसिव प्रीमियर किया जा रहा है । यह फ़िल्म  ब्रिटिश उपनिवेशवाद के दौर पर बनने वाली पहली उत्तराखंड की फिल्म है । जिसमें ब्रिटिश हुकूमत और पहाड़ी लोगों के प्रतिरोध और प्रतिशोध को दिखाया गया हैं ।

 

निर्माता निर्देशक योगेश वत्स ने बताया कि गैदेरा को इंग्लिश , हिंदी , गढ़वाली और कुमाऊनी भाषा में फिल्माया गया है । फिल्म की शूटिंग रामनगर , नैनीताल, हर्षिल, चमोली और पिथौरागढ़ की मनमोहक घाटियों और गैधेरों में की गई थी । फिल्म में ब्रिटिश और उत्तराखंड के स्थानीय कलाकारों ने काम किया हैं । फिल्म का निर्देशन और पटकथा योगेश वत्स द्वारा स्वयं की गई हैं । फिल्म का निर्माण सिद्धार्थ राजकुमार और योगेश वत्स द्वारा मिलकर किया गया हैं । फिल्म शूटिंग के दौरान ही चर्चा का विषय रही। विदेशी कलाकारों और शूटिंग को देखने की उत्सुककता ने कुमाऊं और गढ़वाल के लोगों के दिलों में फिल्म को देखने की काफी जिज्ञासा है। ख़ासकर उत्तराखण्ड का युवा वर्ग फिल्म के पोस्टर और सामग्री को गढ़वाली और कुमाऊनी भाषा में लिखकर शेयर कर रहा है ।

ALSO READ:  नैनीताल राजभवन में लगी महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा निर्मित उत्पादों की प्रदर्शनी । राज्यपाल ने किया प्रदर्शनी का अवलोकन ।

योगेश वत्स ने बताया की उत्तराखण्ड में उनका शूटिंग करने का अनुभव शानदार रहा । सरकार  द्वारा शूटिंग की सभी परमिशन और औपचारिकताओं को पूरा करने के लिए सिंगल विंडो सिस्टम बहुत करगार है । फिल्म निर्माण से पहले उत्तराखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के समक्ष शूटिंग से जुड़े मुद्दों पर बात हुई थी जिन्होंने उन्हें तुरंत होने के आश्वासन दिया और सभी तरह की मदद उत्तराखण्ड सरकार से मिली ।

फिल्म में जल, जंगल और पहाड़ के लिए पहाड़ी लोगों का टकराव, ब्रिटिश हुकूमत के साथ कैसे रहा और किस तरह से पूर्वजों ने अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए प्राकृतिक संसाधनों को सहेजने का काम किया इस जद्दोजहद को दिखाया गया है ।

फिल्म की शूटिंग सर्द ऋतु में की गई थी और कोरोनाकाल में सभी तरह की प्राथमिकताओं को ध्यान में रखकर की गई थी ।

फिल्म निर्माण में काफी घोड़े उपयोग में हुए जिन्हे रामनगर और नैनीताल की अलग अलग जगह से मंगवाया गया ।

गैधेरा एक समय पर आधारित फिल्म है जो 1912 के आस पास की घटनाओं पर ब्रिटिश गढ़वाल और कुमाऊं पर आधारित है । फिल्म में वेशभूषा, बोली और उस कालखंड से जुड़ी वस्तुओं को खूबसूरती से दर्शाया गया हैं।

ALSO READ:  नैनीताल के प्रवर वर्मा व धीरज गोस्वामी की जोड़ी ने जीती बालक वर्ग की डिस्ट्रिक्ट बैडमिंटन वर्ग की युगल प्रतियोगिता ।

यूरोपियन एक्ट्रेस कैटरीना मॉरिस ने कहा कि उत्तराखण्ड में शूटिंग में घर जैसा माहौल मिला । स्थानीय लोगों ने बहुत मदद की । यह बहुत ही सुंदर जगह हैं ।

“”उत्तराखंड के लोगो की शालीनता और जज़्बा शानदार हैं ( एडवर्ड क्रिस्टल, अभिनेता)”

“उत्तराखंड हर मायने में शानदार हैं , ये पहाड़ ये वादियां और मेहनती लोग प्रेरणादायक हैं ( योगेश वत्स , निर्माता निर्देशक)”

“उत्तराखंड में बहुत जल्द ही एक फिल्म और शूट करने का हमारा प्रयास हैं यहां शूटिंग करना शानदार अहसास हैं
( सिद्धार्थ राजकुमार , निर्माता )”

 

फिल्म में एडवर्ड क्रिस्टल, रैंडी गेटी, एंड्रयू जॉनसन, लियो, कैटरीना मॉरिस के अलावा काफी ब्रिटिश और यूरोपियन कलाकारों ने काम किया हैं।

फिल्म में सीनियर अभिनेता एवं प्रसिद्ध रंगकर्मी श्रीष डोभाल, राजेश आर्य , अनिल घिल्डियाल और जागृति डोभाल और देव सिंह गरिया के अलावा सैकड़ों स्थानीय कलाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया है ।

योगेश ने कहा कि सालों की मेहनत से बनी इस फिल्म को उत्तराखंड के दर्शक कितना प्यार करते हैं यह तो फिल्म रिलीज के बाद पता चलेगा पर इस फिल्म की चर्चा उत्तराखंड के हर सिनेमा प्रेमी की जुबान पर है ।

 

By admin

"खबरें पल-पल की" देश-विदेश की खबरों को और विशेषकर नैनीताल की खबरों को आप सबके सामने लाने का एक डिजिटल माध्यम है| इसकी मदद से हम आपको नैनीताल शहर में,उत्तराखंड में, भारत देश में होने वाली गतिविधियों को आप तक सबसे पहले लाने का प्रयास करते हैं|हमारे माध्यम से लगातार आपको आपके शहर की खबरों को डिजिटल माध्यम से आप तक पहुंचाया जाता है|

You cannot copy content of this page